इतिहास में उल्लेख है कि राणा पूंजा भील का जन्म मेरपुर के मुखिया दूदा होलंकी के परिवार में हुआ था। उनकी माता का नाम केहरी बाई था, उनके पिता का देहांत होने के पश्चात 15 वर्ष की अल्पायु में उन्हें मेरपुर का मुखिया बना दिया गया।

Published in आलेख
मंगलवार, 07 फरवरी 2017 13:18

अखिलेश, औरंगजेब और फिदायीन...

जो उत्तर प्रदेश की राजनीति में अखिलेश ने मुलायम का किया है उसके बाद से अक्सर उन्हें औरंगज़ेब बुलाया जाने लगा है| शक्तिशाली मुग़ल शहंशाहों में औरंगजेब आखरी थे, उनके बाद के 12-13 मुग़ल शासक योग्य नहीं थे और अंत में बहादुर शाह जफ़र को अंग्रेजों ने दिल्ली की गद्दी से उतार फेंका था|

Published in आलेख

या अल्लाह... तुम तो हमें अकेले में चीखने दो और जोर जोर से रोने दो। कहीं एकान्त में हमारा दम ही न निकल जाए। बुरके की घुटन में लोक जीवन की चारदीवारी में हमें इतना जी भर के रो लेने दो कि हमारी आखों में एक भी आंसू बाकी न बचे।

Published in आलेख

किसी भी राष्ट्र,समाज में संस्कृति की मूल संवाहक-संरक्षक "स्त्रियां और बालिकाएं, होती हैं, वह संस्कृति को अगली पीढ़ी को हस्तांतरित करती हैं। स्त्रियाँ भ्रष्ट, संस्कृति नष्ट, फिर तो राष्ट्र स्वाहा. आंतरिक कमजोर दुश्मन इसलिए स्त्रियों-बच्चो पर मौन और गोपनीय आक्रमण करता है। सदैव सजग रहना ही बचाव है. उनका कोमल मन घुसपैठ कर विजय पाने का आसान रास्ता है… -- "कार्लाइल. 

Published in आलेख

अंग्रेजी नव वर्ष के आगमन के बाद पूरा विश्व नव वर्ष की खुशियां मना रहा था। किंतु कड़ाके की ठंड के बाद भी कश्मीर में गर्मी अचानक बढ़ गई थीI 4 जनवरी 1990 कश्मीर के एक स्थानीय "उर्दू समाचार पत्र आफताब" में कश्मीर के सभी अल्पसंख्यक हिंदुओं एवं सिक्खों को अपना सामान पैक कर कश्मीर छोड़ने के लिए कहा गया था।  पढ़िए 20वीं शताब्दी के सबसे बड़े मुस्लिम अत्याचार अर्थात कश्मीर के बारे में...

Published in आलेख

भारतीय राजनीति के सियासी महाभारत में उत्तर प्रदेश का चुनाव एक महत्वपूर्ण पड़ाव माना जा रहा है। यद्यपि मोदी सरकार के आने के बाद छात्रसंघ चुनावों से लेकर निगम/ पंचायत चुनावों तक भी मोदी लहर को पढ़ने की कोशिश राजनितिक विश्लेषक करते रहे हैं, परंतु वास्तविकता में उत्तर प्रदेश चुनाव को मोदी समेत पूरी भाजपा भी बेहद गंभीरता से ले रही है,

Published in आलेख

पाकिस्तान, सऊदी अरेबिया और ईरान ..........अगर ट्रम्प अपने कार्यकाल में केवल इन 3 मुल्ला देशों को तबाह कर दे तो उसका सारी दुनिया पे बहुत बड़ा अहसान होगा और इस्लामिक आतंकवाद की जडें उखड़ जायेंगीं और जैसा की महान मराठा योद्धा श्रीमंत बाजीराव पेशवा जी ने सूत्र दिया था की जड़ों पे प्रहार करो फिर पेड़ तथा पत्ते अपने आप गिर जायेंगें. 

Published in आलेख

संसार के सबसे भयानक नरसंहारों में सबसे बड़े नरसंहार ईसाइयों और इस्लामियों द्वारा हम मूर्तिपूजकों के हैं। जिन्हें उन्होंने चतुर भाषा में पैगन कहा है। इसके बाद ईसाइयों और मुसलमानों द्वारा ही यहूदियों के नरसंहार आते हैं।

Published in आलेख

शत्रु का शत्रु मित्र होता है इस सिद्धांत से अक्सर "वामी-इलहामी" कंधे से कंधा मिलाकर भारत के राष्ट्रवादीयों को निपटाने में तत्पर दिखाई देते हैं. वामियों को इलहमियों में कोई फासिस्ट प्रवृत्ति नजर नहीं आती, भगवे के अंधे को हरा अच्छा दिखाता होगा शायद.

Published in आलेख

सभाओं का शौक बचपन से है, जाते रहता हूँ. हाल ही में एक बार पता चला इंद्रेश कुमार जी मुंबई आनेवाले थे, मैं भी गया सभा में. अब बात उन्होने क्या कहा उसकी नहीं, अलग है. भाषणों के बाद कुछ मुस्लिम प्रश्न पूछने के लिए खड़े हुए. बात यहाँ उनके प्रश्नों की करूंगा, हिंदुओं के लिए उसमें सीख है.

Published in आलेख