दक्षिण भारत के प्रसिद्ध तिरुपति बालाजी मंदिर के मुँह में पानी लाने वाले लड्डू को खिलाने पर मंदिर ट्रस्ट को 140 करोड़ का प्रतिवर्ष नुक्सान हो रहा है. पिछले तीन वर्ष में यह नुक्सान बढ़ता ही जा रहा है,

Published in आलेख

विश्वास का महत्व इतना अधिक है कि देखा जाए तो यह संसार विश्वास पर ही निर्भर है| यदि आप किसी पर भी विश्वास नहीं करेंगे तो जीवन न तो सहज होगा, और न ही सम्भव और विश्वास तो अँधा ही होता है| आज हम विज्ञान द्वारा सिद्ध बात को सर्वोपरि मानते हैं|

Published in आलेख

‘यत्र नारस्य पूज्यन्ते,रमन्ते तत्र देवता‘ अर्थात जहां नारी का सम्मान होता है, वहां देवता निवास करते हैं | यह वाक्य जिस देश के शास्त्रों में लिखा हो, उस देश के विषय में जब लोग यह कहने लगें कि इस देश में शुरू से नारियों पर अत्याचार होता आया है...

Published in आलेख

सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश जेएस खेहर ने कहा है कि मुस्लिम महिलाओं की सैकड़ों याचिकाओं को देखते हुए जल्दी ही तीन तलाक, हलाला, शरीयत कोर्ट और बहुविवाह जैसे मामलों के संवैधानिक पहलुओं को देखने और इन पर दिशानिर्देश जारी करने के लिए पाँच जजों की एक संवैधानिक पीठ गठित की जाएगी.

Published in आलेख

उड़ीसा के स्थानीय निकाय चुनावों के परिणामों ने नवीन पटनायक की पार्टी बीजू जनता दल के साथ-साथ काँग्रेस की नींद भी उड़ा दी है. हाल ही में सम्पन्न स्थानीय चुनावों के दो चरणों में 188 जिला परिषदों में से भाजपा ने 71 सीटें जीत ली हैं.

Published in आलेख

पश्चिम बंगाल एक बेहद गंभीर मोड़ पर पहुँच चुका है, और यदि जल्दी ही कुछ न किया गया तो इसे “इस्लामिक बांग्लादेश” में बदलते देर नहीं लगेगी.

Published in ब्लॉग

पिछले १० या १५ सालों से “विकास” नाम का शब्द बार बार सुनने में आता है... हर किसी को विकसित होना है. चाहे लोग हो, समाज हो या देश. यह विकास क्या होता है ? यह कभी पता नहीं चल पाया,

Published in आलेख

3600 करोड़ एक मूर्ति के लिए?? 600 मिलियन डॉलर? देश में इतनी भुखमरी है, सड़कें टूटी हुई हैं, कुपोषण है, ठंढ में लोग मर रहे हैं, किसान आत्महत्या करते हैं, ग़रीबी है, बाढ़ है, सूखा है… फिर ये मूर्ति कितनी ज़रूरी है? सरकार की प्राथमिकताएँ, यानि प्रायोरिटीज़, विचित्र हैं।

Published in आलेख

आपने मेरा लेख पढ़ा होगा (यहाँ पढ़ें) जिसमें मैंने बताया है कि “सेकुलर रेप” और “साम्प्रदायिक रेप” के बीच क्या अंतर होता है. उसी को दृष्टिगत रखते हुए मध्यप्रदेश के रानापुर में एक “सफ़ेद शांतिदूत” यानी पादरी हेनोप अलेग्जेंडर ने एक सैंतीस वर्षीय आदिवासी महिला के साथ बलात्कार कर डाला है.

Published in आलेख

22-23 सितम्बर 1918 को हाईफा का युद्ध मानव इतिहास के सबसे बड़े युद्धों में से एक है. प्रथम विश्व युद्ध के दौरान जोधपुर और मैसूर के महाराजाओं द्वारा भेजे गए भारतीय सैनिकों ने बड़ी संख्या में इजराईल (पश्चिम एशिया) में अपने जीवन का बलिदान दिया. भारतीय वीरों ने तुर्की, जर्मनी और ऑस्ट्रिया की संयुक्त सेनाओं को पराजित किया था

Published in आलेख