आपने सुना होगा उत्तराखण्ड उच्च न्यायालय ने गंगा एवं यमुना नदियों को "जीवित अस्तित्व" अर्थात् "व्यक्ति" का स्थान दिया है. इसका अर्थ है अब नदियों के "मानवाधिकार" होंगे. नदियों को किसी प्रकार की क्षति पहुँचाना, प्रदूषण करना अब भारतीय दण्ड संहिता के अन्तर्गत एक दण्डनीय अपराध माना जाएगा.

Published in आलेख

बाबरी ध्वंस के पश्चात अयोध्या में घटनाक्रम कुछ इस प्रकार हुआ...

6 दिसंबर 1992 को अयोध्या में जब तीन गुंबद वाला ढाँचा गिर गया तो उस दिन सायंकाल अयोध्या पुलिस थाने में दो रिपोर्ट लिखी गई।

1. ढाँचे के समीप ड्युटी पर तैनात पुलिस इंस्पेक्टर ने एक एफआईआर लिखवाई जिसमें पुलिस इंस्पेक्टर ने लिखवाया कि‘’लाखों कारसेवक ढाँचे पर चढ गये और उन्होने ढाँचे को गिरा दिया पर मैं किसी को पहचानता नही.’’।

Published in आलेख