देश अभिशप्त है कांग्रेस की गलतियों को झेलने के लिये - सन्दर्भ तेलंगाना विवाद …… Telangana Movement, Andhra-Rayalseema Congress Politics

Written by बुधवार, 06 जनवरी 2010 11:30
जिस समय आंध्रप्रदेश का गठन हो रहा था उस समय नेहरु ने कहा था कि “एक मासूम लड़की की शादी एक शरारती लड़के के साथ हो रही है, जब तक सम्भव हो वे साथ रहें या फ़िर अलग हो जायें…”। 50 साल तक इस मासूम लड़की ने शरारती युवक के साथ किसी तरह बनाये रखी कि शायद वह सुधर जायेगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ, और आज जब “मासूम लड़की” अलग होना चाहती है तो वह शरारती लड़का (आंध्र-रायलसीमा) (जो अब गबरू पहलवान बन चुका है) अपने बाप (केन्द्र) को भी आँखे दिखा रहा है, और बाप हमेशा की तरह “हर धमकाने वाले” के सामने जैसा घिघियाता रहा है, वैसा ही अब भी घिघिया रहा है।

तेलंगाना के पक्ष में कुछ बिन्दु हाल ही में तेलंगाना नेता डॉ श्रीनिवास राजू के एक इंटरव्यू में सामने आये हैं – जैसे :

1) जलियाँवाला बाग हत्याकाण्ड के बारे में हम लोगों ने कई-कई पन्ने पढ़े हैं, लेकिन यह बात बहुत कम लोगों को पता होगी कि हैदराबाद के निजाम ने तेलंगाना के लोगों के साथ जलियाँवाला जैसे लगभग 6 हत्याकाण्ड अंजाम दिये हैं, जब तेलंगाना के लोगों ने उस समय निजाम से अलग होने की मांग करने की “जुर्रत” की थी, यही निजाम भारत की आज़ादी के समय भी बहुत गुर्रा रहा था, लेकिन सरदार पटेल ने उसे पिछवाड़े में दुम दबाने पर मजबूर कर दिया था।

2) तेलंगाना क्षेत्र की विधानसभा भवन, उच्च न्यायालय भवन आदि निजाम के ज़माने से बन चुके हैं। सन् 1909 में आधुनिक इंजीनियरिंग के पितामह एम विश्वेश्वरैया ने हैदराबाद में भूमिगत ड्रेनेज सिस्टम बनवाया था जिसमें से अधिकतर हिस्सा आज सौ साल बाद भी काम में लिया जा रहा है।

3) कृष्णा नदी के जलग्रहण क्षेत्र का 69 प्रतिशत हिस्सा तेलंगाना में आता है, लेकिन एक भी बड़ा बाँध इस इलाके में नहीं है।

4) डॉ बीआर अम्बेडकर भी हैदराबाद को भारत की दूसरी अथवा आपातकालीन राजधानी बनाने के पक्ष में थे।

5) आंध्र राज्य के निर्माण के समय कांग्रेस ने सबसे पहला वादा तोड़ा नामकरण को लेकर, तय यह हुआ था कि नये प्रदेश का नाम “आंध्र-तेलंगाना” रखा जायेगा, लेकिन पता नहीं क्या हुआ सिर्फ़ “आंध्रप्रदेश” रह गया।

6) दूसरी बड़ी वादाखिलाफ़ी निजामाबाद जिले में बनने वाले श्रीराम सागर बाँध को लेकर हुई, 40 साल बाद भी इस बाँध का प्रस्ताव ठण्डे बस्ते में है।

7) यदि तेलंगाना का गठन होता है तो इसका क्षेत्रफ़ल विश्व के 100 देशों से बड़ा और भारत के 18 राज्यों से बड़ा होगा।

8) तेलंगाना क्षेत्र के लोगों के साथ हमेशा आंध्र के लोगों ने खिल्ली उड़ाने वाले अंदाज़ में ही बात की है, इसका सबसे बड़ा उदाहरण यह है कि तेलुगू फ़िल्मों में एक भी बड़ा हीरो तेलंगाना क्षेत्र से नहीं है, जबकि तेलुगु फ़िल्मों में हमेशा विलेन अथवा जोकरनुमा पात्र को तेलंगाना का दर्शाया जाता है।

मीडिया का रोल –

तेलंगाना आंदोलन शुरु होने के बाद से अक्सर खबरें आती हैं कि तेलंगाना के लोगों की वजह से करोड़ो का नुकसान हो रहा है, बन्द और प्रदर्शनों की वजह से भारी नुकसान हो रहा है आदि-आदि। डॉ श्रीनिवास के अनुसार आंध्रप्रदेश रोडवेज को जो 7 करोड़ का नुकसान हुआ है वह पथराव और बन्द की वजह से बसें नहीं चलने की वजह से हुआ है। जितना उग्र प्रदर्शन आंध्र और रायलसीमा में हो रहा है उसके मुकाबले तेलंगाना के लोग बड़े ही लोकतांत्रिक तरीके से अपनी बात रख रहे हैं। उदाहरण के लिये आंध्र और रायलसीमा में 70 करोड़ की बसें और सम्पत्ति जलाई गई हैं। BSNL ने भी अपनी एक पुलिस रिपोर्ट में कहा है कि कुछ युवकों द्वारा उसके ऑप्टिकल फ़ाइबर जला दिये जाने की वजह से उसे रायलसीमा में 2 करोड़ का नुकसान हुआ है। रायलसीमा में ही जेसी दिवाकर रेड्डी के समर्थकों द्वारा एक रेल्वे स्टेशन को बम से उड़ाने के कारण 10 करोड़ का नुकसान हुआ है, लेकिन यह सभी खबरें तेलुगु मीडिया द्वारा दबा दी गईं क्योंकि मीडिया के अधिकतर हिस्से पर आंध्र के शक्तिशाली रेड्डियों का कब्जा है। आंध्र के पैसे वाले रेड्डियों ने तेलंगाना और हैदराबाद में सस्ती ज़मीनें गरीबों के आगे पैसा फ़ेंककर उस वक्त कौड़ियों के दाम खरीद ली थीं, जो अब अरबों की सम्पत्ति बन चुकी हैं… आंध्र-रायलसीमा के लोगों का मुख्य विरोध इसी बात को लेकर है कि तेलंगाना बन जाने के बाद बाँध बन जायेंगे और उधर पानी सीमित मात्रा में पहुँचेगा तथा हैदराबाद पर तेलंगाना का अधिकार हो जायेगा तो उनकी सोना उगलने वाली सम्पत्तियों का क्या होगा… इसीलिये दिल्ली से लेकर हैदराबाद तक पैसा झोंककर मीडिया सहित सबको मैनेज किया जा रहा है अथवा धमकाया जा रहा है।

इस सारे झमेले के बीच संघ प्रमुख भागवत जी ने एक मार्के की बात कही है, उन्होंने छोटे राज्यों के गठन का विरोध करते हुए कहा है कि अधिक राज्य बनाने से गैर-योजनागत व्यय में कमी आ जाती है, राज्य बनने से वहाँ के मंत्रियों-अधिकारियों-मंत्रालयों आदि के वेतन पर जो खर्च होता है उस कारण आम जनता के लिये चलने वाली योजनाओं के पैसे में कमी आती है। मंत्री और आईएएस अधिकारी अपनी राजसी जीवनशैली छोड़ने वाले नहीं हैं, ऐसे में छोटे राज्यों में प्रशासनिक खर्च ही अधिक हो जाता है और वह राज्य सदा केन्द्र का मुँह तकता रहता है।

सोनिया ने तो अपनी जयजयकार करवाने के चक्कर में तेलंगाना के निर्माण का वादा कर दिया (यहाँ देखें), लेकिन अब रेड्डियों के दबाव में आगे-पीछे हो रही हैं। निज़ाम के वंशज अभी से सपने देखने लगे हैं कि प्रस्तावित तेलंगाना में 20% आबादी मुस्लिम होगी तब वे अपना मुख्यमंत्री बनवा सकेंगे और अधिक फ़ायदा उठा सकेंगे। उधर नक्सली मौके की ताक में हैं, कि कब तेलंगाना में आग भड़काकर अपना फ़ायदा देखा जाये… यानी मुर्दा अभी घर से उठाया ही नहीं है उससे पहले ही तेरहवीं के भोज खीर मिलेगी या लड्डू, इसकी चर्चा शुरु हो गई है, जबकि भोंदू युवराज दलितों की थाली में ही लगे हुए हैं… यदि महारानी और युवराज सच्चे नेता होते तो मामले पर आगे आते और जनता/मीडिया से बात करते, लेकिन ये लोग “फ़ैब्रिकेटेड नेता” हैं। कुछ दिनों पहले चीन के एक सैन्य अखबार ने लिखा था कि थोड़े से प्रयासों से हम आसानी से भारत के कई टुकड़े कर सकते हैं, लेकिन अब वे चैन से सो सकते हैं… ये काम हम ही कर लेंगे… पहले भी करते आये हैं। यदि तेलंगाना बन भी गया तो अब तक यहाँ के उपेक्षित और अपमानित स्थानीय व्यक्तियों / आदिवासियों को कोई लाभ मिल सकेगा इसमें संदेह ही है, क्योंकि “गिद्ध” अभी से मंडराने लगे हैं। तेलंगाना राज्य तभी बनेगा, जब कांग्रेस को इसमें अपना फ़ायदा दिखाई देगा, फ़िलहाल ऐसे आसार नहीं हैं, इसलिये चाहे जितनी सार्वजनिक सम्पत्ति का नुकसान हो, चाहे जितनी रेलें रोकी जायें, चाहे जितनी बसें जलाई जायें, अपनी गलतियों को ढँकने के लिये, मामले को लम्बा लटकाने की भूमिका अन्दर ही अन्दर तैयार हो चुकी है…।

खैर, कांग्रेस की सैकड़ों वादाखिलाफ़ियों और ऐतिहासिक गलतियों की सजा पूरे देश में कितनी पीढ़ियाँ, कितने समय तक झेलती रहेंगी, पता नहीं… यह देश अभिशप्त है कांग्रेस को झेलते रहने के लिये…


Telangana Movement, Andhra-Telangana-Rayalseema, KCR, Separate Telangana State, Revenue Sharing Andhra-Telangana, Violence in Telangana Andhrapradesh, Media Bias Telangana, तेलंगाना आंदोलन, आंध्रप्रदेश-तेलंगाना-रायलसीमा, के चन्द्रशेखर राव, अलग तेलंगाना राज्य, Blogging, Hindi Blogging, Hindi Blog and Hindi Typing, Hindi Blog History, Help for Hindi Blogging, Hindi Typing on Computers, Hindi Blog and Unicode
Read 440 times Last modified on शुक्रवार, 30 दिसम्बर 2016 14:16
Super User

 

I am a Blogger, Freelancer and Content writer since 2006. I have been working as journalist from 1992 to 2004 with various Hindi Newspapers. After 2006, I became blogger and freelancer. I have published over 700 articles on this blog and about 300 articles in various magazines, published at Delhi and Mumbai. 


I am a Cyber Cafe owner by occupation and residing at Ujjain (MP) INDIA. I am a English to Hindi and Marathi to Hindi translator also. I have translated Dr. Rajiv Malhotra (US) book named "Being Different" as "विभिन्नता" in Hindi with many websites of Hindi and Marathi and Few articles. 

www.google.com